क्या अंकिता भंडारी को मिलेगा न्याय?

पौड़ी जिले उत्तराखंड की रहने वाली अंकिता भंडारी 19 वर्षीया बालिका 1 साल का होटल डिप्लोमा कर पिछले 18 अगस्त को ऋषिकेश से 8 किलोमीटर दूर 1 रिसॉर्ट मे आफिस मे 10 हजार रुपये तनखा पर काम पर लगी | यह रिजॉर्ट भाजपा के नेता विनोद आर्य का है जिसे उसका बेटा पुलकित आर्य चलाता है, जब से अंकिता भंडारी ने वहां जॉइन किया तब से वहाँ उसे कुछ असहज लगता था, इस बात की पुष्टि उसके अपने मित्र से अंतिम whatsapp चैट से भी पता लगता है जिसने वो कह रही है और साथ ही यह भी बता रहीं हैं की उसे होटल मे आनेवाले कुछ लोगों के साथ कुछ ऐसा सम्बंध बनाने के लिए दबाव होटल मालिक पुलकित आर्य द्वारा दिया जा रहा है जो वो कभी नहीं कर सकती और फिर इसके बाद उसके हत्या की खबर आ जाती है!
लेकिन अब उत्तराखंड की सर्कार और पुलिस को यह जवाब देने होंगे
1 क्यों अंकिता भंडारी के परिवार वालों के दरख्वास्त के बावजूद पुलिस ने रिपोर्ट Fir दर्ज नहीं किया?
2 किसने होटल पर बुलडोजर चलाने को कहा जब होटल की फॉरेंसिक जांच बाकी थी जिसमें अनेकों सबूत मील सकते थे?
3 पीड़ित परिवार जब अंतिम संस्कार फाइनल पोस्ट मार्टम रिपोर्ट आने के बाद करना चाहता था क्योंकि वो अंतरिम पोस्ट मार्टम रिपोर्ट से खुश नहीं था तो क्यों और किसने परिवार पर दबाव देकर अंतिम संस्कार की घोषणा की?
4 होटल मालिक एवं भाजपा के नेता का बेटा पहले भी 1 लड़की के साथ ऐसा कर चुका है और कई जालसाजी के मामलों मे लिप्त है तो उसे क्यों सर्कार द्वारा संरक्षण प्राप्त था?
क्या ईन सब बातों से आपको नहीं लगता की उत्तराखंड की भाजपा सर्कार कितनी मेहनत करेगी केस को रफा-दफा करने मे?

Chaman Singh

News Volunteer

Voice of the People

Uttarakhand India

    Share

    Related